Recents in Beach

Patanjali Laxmi Vilas Tablet Uses in Hindi(Laxmi Vilas Tables)

लक्ष्मी विलास रस के फायदे और नुकसान

Patanjali Laxmi Vilas Tablet Uses in Hindi
Patanjali Laxmi Vilas Tablet Uses in Hindi


Patanjali Laxmi Vilas tablet uses in Hindi: पतंजलि लक्ष्मी विलास रस के लाभ पतंजलि लक्ष्मी विलास रस के फयादे महालक्ष्मी विलास रस के लाभ, उपयोग। पतंजलि लक्ष्मी विलास रस एक आयुर्वेदिक औषधि है जो मुख्य रूप से गठिया जैसे जोड़ों के विकारों के अलावा कफ, कफ खांसी, पुरानी खांसी, गले के संक्रमण, ढीले बलगम आदि के उपचार के लिए उपयोग की जाती है। महालक्ष्मी विलास भी मुख्य रूप से कफज रोगों में बहुत उपयोगी है। इसके अलावा इसका उपयोग हृदय और रक्त वाहिकाओं को शक्ति प्रदान करने के लिए किया जाता है।


पतंजलि लक्ष्मी विलास रस वटी (गोलियों) के रूप में उपलब्ध है। इस दवा में मुख्य रूप से धातुओं (भस्म) का उपयोग किया जाता है, इसलिए इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूरी है। भले ही यह एक आयुर्वेदिक दवा है, लेकिन कभी भी अपने हिसाब से इसका इस्तेमाल न करें।


इसके बारे में हमें भैषज्य रत्नावली से विस्तार से पता चलता है। खांसी के रोग, सिर दर्द में भी इस औषधि का प्रयोग कारगर माना जाता है। (पतंजलि लक्ष्मी विलास रस) इसके अलावा यह दवा मांसपेशियों की कमजोरी को दूर करती है, फेफड़ों को मजबूत करती है, प्रजनन अंगों की कमजोरी, हृदय की कमजोरी, पेट के विकार, कमजोर पाचन आदि विकारों में लाभकारी होती है।


    पतंजलि लक्ष्मी विलास रस की सामग्री

    • शुद्ध बुध (सुधा बुध)
    • शुद्ध सल्फर (सुधा गंधक)
    • अभ्रक भस्म
    • कपूर, गदा
    • जायफल
    • विधारा बीजो
    • Shatavari
    • नागबाला
    • अतिशयोक्ति
    • गोखरू
    • पान के पत्ते का रस
    उल्लेखनीय है कि भैषज्य रत्नावली के अनुसार, महालक्ष्मी विलास रस जैसे बैद्यनाथ महालक्ष्मी विलास रस में निम्नलिखित घटक द्रव्य होते हैं -

    अभ्रक भस्म, शुद्ध गंधक, शुद्ध बुध, वांग भस्म, स्वर्ण मक्षिक भस्म, तांबे की भस्म, कपूर, जावित्री, जायफल, विधारा, धतूरा के बीज, चांदी की भस्म, स्वर्ण भस्म आदि।


    पतंजलि लक्ष्मी विलास रस के फायदे

    फेफड़ों के विकारों को दूर करने में पतंजलि लक्ष्मीविलास रस के लाभ
    पतंजलि लक्ष्मीविलास रस फेफड़ों के संक्रमण, वायु मार्ग में सूजन/रुकावट, कफज संबंधित विकारों में बहुत लाभकारी होता है। (त्रिभुवन कीर्ति रस) यह औषधि सभी प्रकार के फेफड़ों के विकारों के लिए लाभकारी है।
    इसे शहद के साथ चाटने से आमतौर पर पुरानी सर्दी, नाक बंद होना, आंखों की रोशनी ठीक हो जाती है और शरीर में बढ़ा हुआ कफ कम हो जाता है। महालक्ष्मी विलास रस उन लोगों के लिए लाभकारी औषधि है जिन्हें पुरानी सर्दी है और यह ठीक नहीं हो रहा है। पुरानी खांसी के रोग में इस औषधि को शहद के साथ टंकन भस्म के रूप में लेने से खांसी दूर होती है।


    पतंजलि लक्ष्मीविलास रस के अन्य लाभ:-

    पतंजलि लक्ष्मीविलास रस के सेवन से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और स्वास्थ्य बेहतर होता है।
    • पतंजलि लक्ष्मीविलास रस (वात जनित विकारों में बहुत लाभकारी होता है। यह आधी राख, कानों में सीटी बजने, पुराने सिरदर्द के दर्द में उपयोगी होता है।)
    • टाइफस में उपयोगी। पतंजलि लक्ष्मीविलास रस पुराने कफज और वातज रोगों के उपचार में एक प्रभावी औषधि है।
    • अभ्रक भस्म, यशद भस्म, सितोफलादि चूर्ण और पतंजलि लक्ष्मीविलास रस को शहद के साथ लेने से निमोनिया ठीक हो जाता है।
    • गोदंती भस्म को पतंजलि लक्ष्मीविलास रस के साथ लेने से पुराना ज्वर शांत होता है और शरीर की दुर्बलता, हाथ-पैर की जलन आदि दूर हो जाती है।
    • कास रोगों में पतंजलि लक्ष्मीविलास रस (पतंजलि लक्ष्मीविलास रस) को वटी का चूर्ण बनाकर, शहद के साथ सितोपलादि चूर्ण के साथ लेने से लाभ होता है।
    • पतंजलि लक्ष्मीविलास रस कफ के कारण होने वाली धीमी पाचन अग्नि को नियंत्रित करता है और शरीर की कमजोरी को दूर करता है। पाचन तंत्र बेहतर होता है, शरीर में ऊर्जा बढ़ती है। आंतों की कार्यप्रणाली को बेहतर करने के लिए यह लाभकारी औषधि है।
    • शारीरिक कमजोरी के कारण होने वाले बुखार को ठीक करने में उपयोगी।
    • पतंजलि लक्ष्मीविलास रस त्रिदोषों (वात, पित्त और कफ) को संतुलित करने में सहायक है।
    • पतंजलि लक्ष्मीविलास रस गले की सूजन, ज्वर संबंधी निमोनिया, दमा, बवासीर, टॉन्सिल और गले के विकारों में लाभकारी औषधि है।
    • इस औषधि का प्रयोग कुष्ठ रोग में भी किया जाता है।
    • पतंजलि लक्ष्मीविलास रस हृदय दर्द, हृदय गति की गति, दुर्बलता आदि में सहायक है।
    • गठिया रोग में भी यह औषधि लाभकारी होती है।
    • इस दवा का हृदय और रक्त वाहिकाओं पर अच्छा प्रभाव पड़ता है। यह दवा अनियमित हृदय गति, सीने में दर्द आदि विकारों में कारगर है।
    • पतंजलि लक्ष्मीविलास रस को गोदंती भस्म के साथ लेने से फेफड़ों की दुर्बलता शीघ्र दूर होती है और श्वास विकारों का नाश होता है।
    • मानसिक तनाव के कारण हृदय गति का कमजोर होना, घबराहट होना, शरीर में कंपन का बना रहना आदि विकारों में भी इसका सेवन किया जाता है। ऐसे विकारों के लिए महालक्ष्मी विलास रस को शहद (मधु) के साथ मोती पिष्टी या प्रवाल चंद्रपुत्री के साथ लेने से लाभ होता है। फायदेमंद।

    लक्ष्मी विलास रस के नुकसान (लक्ष्मी विलास के साइड इफेक्ट)

    • महालक्ष्मी विलास रस, हालांकि एक आयुर्वेदिक दवा है, जो धातु से बनाई जाती है, इसलिए इसका सेवन खुद नहीं करना चाहिए। इसका सेवन अपने आप में खतरनाक साबित हो सकता है। किसी भी व्यक्ति के शरीर की प्रकृति, रोग की जटिलता, देश, आयु, चिकित्सा उपचार, भोजन के अनुसार किसी भी औषधि का सेवन नहीं करना चाहिए।
    • पतंजलि लक्ष्मीविलास रस डॉक्टर की सलाह के बाद ही निर्धारित मात्रा में लेना चाहिए।
    • पतंजलि लक्ष्मीविलास रस का सेवन अधिक समय तक नहीं करना चाहिए।
    • वैद्य द्वारा बताई गई पतंजलि लक्ष्मीविलास रस की खुराक से अधिक लेने से गंभीर दुष्प्रभाव हो सकते हैं।
    • गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को पतंजलि लक्ष्मीविलास रस का बहुत बार सेवन नहीं करना चाहिए।
    • पतंजलि लक्ष्मीविलास रस को निर्धारित अनुसार स्टोर करें।


    पतंजलि लक्ष्मी विलास रास के विषय पर पतंजलि का वक्तव्य

    लक्ष्मी विलास रस एक पारंपरिक आयुर्वेदिक फॉर्मूलेशन है जो खांसी, सर्दी और राइनाइटिस को ठीक करता है। यह गले और साइनस को शांत करता है। यह छाती में जमा बलगम को ढीला कर देता है जिससे इसे खांसी में आसानी होती है। यह शरीर के दर्द और तापमान को भी ठीक करता है। यह आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाता है और आगे के संक्रमणों को रोकता है।


    पतंजलि लक्ष्मीविलास रास कीमत

    वर्तमान में, पतंजलि लक्ष्मी विलास रस की कीमत लक्ष्मीविलास रस 20 ग्राम एमआरपी: 56 रुपये (सभी करों सहित) है। नवीनतम जानकारी प्राप्त करने के लिए पतंजलि की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं, जिसका लिंक ऊपर दिया गया है।(लक्ष्मी विलास रस बैद्यनाथ Price)



    पतंजलि लक्ष्मीविलास रसो की खुराक

    जैसा कि पहले बताया जा चुका है कि यह एक आयुर्वेदिक औषधि है, जिसका सेवन आपको डॉक्टर की सलाह के बाद ही करना चाहिए। इसमें धातु भस्म का उपयोग किया जाता है, इसलिए इस दवा को कभी भी अपनी मर्जी से न लें। आमतौर पर डॉक्टर की सलाह के बाद आप भोजन के बाद 01 गोली पानी के साथ ले सकते हैं।


    पतंजलि लक्ष्मीविलास रास के संबंध में सावधानियां सुरक्षा जानकारी पतंजलि लक्ष्मीविलास रास

    • लेबल पर दी गई जानकारी को ध्यान से पढ़ें। उपयोग करने से पहले लेबल को ध्यान से पढ़ें
    • डॉक्टर की सलाह के बाद ही इसका सेवन करें, ओवरडोज हानिकारक है। निर्धारित मात्रा से अधिक का सेवन न करें। सलाह डी गयी खुराक से अधिक न करें
    • इस दवा को बच्चों की पहुंच से दूर रखें। बच्चों की नज़र और पहुंच से बाहर रखें



    कानूनी अस्वीकरण: आहार की खुराक के बारे में बयानों का मूल्यांकन www.AnshPandit.Com द्वारा नहीं किया गया है और किसी भी बीमारी या स्वास्थ्य की स्थिति का निदान, उपचार, इलाज या रोकथाम करने का इरादा नहीं है।

    नोट: उत्पाद 100% वास्तविक होने की गारंटी है। उत्पाद छवियों केवल निदर्शी प्रयोजनों के लिए ही कर रहे हैं। निर्माता के विनिर्माण बैच और स्थान द्वारा किए गए परिवर्तनों के कारण छवियां/पैकेजिंग/लेबल समय-समय पर भिन्न हो सकते हैं। उत्पाद विवरण केवल सूचना के उद्देश्यों के लिए है और इसमें अतिरिक्त सामग्री हो सकती है

    एक टिप्पणी भेजें

    0 टिप्पणियाँ